शुक्रवार, 18 अक्तूबर 2013

भ्रष्टाचार और चुनाव में चोली दामन का रिश्ता है !

भ्रष्टाचार बढ़ रहा यों ,ज्यों सुरसा का विस्तार |
नेताओं की  माया से  भगवान  भी  गया  हार ||
अग्निमुखी,कलियुगी देव सब चट कर जाते हैं |
बड़े  चाव  से  चारा  और  कोयला  खाते   हैं  ||
बेशर्मी  भी  इन  बेशर्मों  से  शरमाती   है   |
हिन्स्रपशु से भी निकृष्ट धनपशु की जाति है ||
चहुंमुखी प्रगति के बावजूद छाई अमावस्या है |
भ्रष्टाचार   बना है  क्योंकि  बड़ी  समस्या   है  ||
जब  चुनाव में  लाखों  रुपये  खर्च  करेंगे  लोग |
खुलकर हो  काले धन का निर्वाचन में उपयोग ||
क्यों फिर भ्रष्टाचार बने ना महाभयानक रोग |
क्योंकि जीतने पर अपनी ही जेब भरेंगे लोग ||
कम  खर्चीले  हों  चुनाव , इसलिए  जरुरी  है |
वरना  भ्रष्टाचार  यहाँ  समझो  मज़बूरी   है ||      
                                         
                                     
                                       
                                           
                                         
                                         
                                               
                                         
                                     
                                               
                                     
                                  

1 टिप्पणी:

  1. सही लिखा है आपने, काफी दिनों बाद आपकी पोस्ट आई अच्छा लगा आभार।

    उत्तर देंहटाएं