मंगलवार, 4 अक्तूबर 2011

अतीत के झरोखे से :लहार

लहार के विषय में किम्वदंती है यह स्थान महाभारत में वर्णित लाक्षागृह रहा है तथा लाख की तीव्र गंध वातावरण में व्याप्त रहने के कारण यह कालांतर में लहार नाम से जाना गया |क्योंकि लहार शब्द का अर्थ ही स्थानीय बोली में तीव्र गंध है और इस अर्थ में यह शब्द यहाँ आज भी प्रचलित है |लेकिन लहार को महाभारत कालीन लाक्षागृह मानने के दावे के समर्थन में इस जनविश्वास के अलावा कोई ठोस पुरातात्विक या ऐतिहासिक साक्ष्य उपलब्ध नहीं है |अलबत्ता वह स्थान जो गढ़ी के नाम से जाना जाता है और जहाँ पर कथित लाक्षागृह होने का विश्वास किया जाता है ,इस बारे में विस्तृत अध्ययन और शोध की अपेक्षा रखता है जिससे आधिकारिक रूप से यह तय हो सके कि इस विशाल टीले पर मौजूद भग्नावशेष जो अब नाममात्र को ही बचे हैं ,किस राजवंश और कालखंड से सम्बंधित है |लाक्षागृह की अवधारणा के समर्थन में गढ़ी  पर मौजूद जिस सुरंग को ,जो अब नष्टप्राय है ,एक प्रमाण के रूप में प्रस्तुत किया जाता है ,उससे भी गढ़ी पर लाक्षागृह होने के तथ्य का प्रथमदृष्टया समर्थन नहीं होता |क्योंकि प्रायः सभी दुर्गों और गढ़ियों पर इस तरह के गुप्त मार्ग पाए जाते हैं |फिर भी इस स्थूल सम्भावना से इंकार नहीं किया जा सकता कि अतीत में यहाँ भीषण अग्निकांड हुआ होगा ,जो चाहे मानवीय भूल का परिणाम रहा हो या किसी की शत्रुतापूर्ण कार्यवाही ,क्योंकि लहारशब्द में  निहित व्यंजना और गढ़ी के आसपास के क्षेत्र में चार- पांच मीटर गहरी खुदाई करने पर राख का पाया जाना इसी तथ्य को स्थापित करता है |
       पुरानी बस्ती लहार तक़रीबन ढाई सौ साल पहले कारेकीट नामक स्थान पर ,वहां बसी हुई थी ,जो वर्तमान में विद्युत् उपकेन्द्र के उत्तरी दिशा में स्थित थी |वहां खुदाई के दौरान आज भी जहाँ -तहां घड़े ,खप्पर व अन्य घरेलू उपकरण प्राप्त होते हैं ,जो वहां बस्ती होने का प्रमाण हैं |
     ग्वालियर रियासत के समय में यह क्षेत्र नमक और नील के उत्पादन के लिए प्रसिद्ध रहा है |इस तथ्य का उल्लेख उस समय यहाँ प्रचलित भूगोल की पुस्तकों में है |यहाँ स्थित तालाब के उत्तरी किनारे पर इन भट्ठियों के अवशेष कुछ दशक पहले तक मौजूद रहें हैं |समीपस्थ ग्राम मसेरन में नील का निर्माण होता था |बहुतों को यह जानकर आश्चर्य होगा कि आज तिलहन और गेंहू ,चना जैसे प्रमुख खाद्यान्नों से समृद्ध इस क्षेत्र में कभी गेंहू के दर्शन भी दुर्लभ थे और यहाँ के लोग गेंहू को धार्मिक अनुष्ठानों के लिए पूजामाई (पूजा की सामग्री )के रूप में संरक्षित करके रखते थे |कृषि के प्रसंग में एक जानने योग्य तथ्य यह है कि कभी यहाँ कपास का विपुल उत्पादन होता था ,लेकिन अब यहाँ कपास की खेती नहीं होती |
        पाँच दशक पहले यहाँ परिवहन की स्थिति बहुत दयनीय थी |यात्रियों को लहार से भिंड तक की यात्रा डाक ले जाने वाले इक्के (ताँगा) की मदद से करनी पड़ती थी और एक अनार सौ बीमार वाली स्थिति के चलते एक सप्ताह पहले इक्के वाले को पेशगी भाड़ा देना पड़ता था |भिंड से आगे का सफ़र छुक-छुक गाड़ी में बैठ कर तय होता था ,पर ज्यादातर लोग बैलगाड़ियों से यात्रा करते थे |
         माँ मंगला के नाम से लोक विश्रुत काले पाषाण में उत्कीर्णित प्रतिमा ,जिसकी यहाँ जनमानस में एक देवी के रूप में मान्यता है ,बाईसवें जैन तीर्थंकर नेमिनाथ की एक दुर्लभ प्रतिमा है जिस पर हस्ती युगल कलशाभिषेक कर रहा है |यह प्रतिमा ई. ११६० में इन्द्र्खी नरेश इन्द्रदेव को एक स्वप्नादेश से भूगर्भ से प्राप्त हुई बताई जाती है |इंदुरखी नरेश ने इस चमत्कारी प्रतिमा को उसके प्राकट्य -स्थल पर ही चबूतरा बनवाकर प्रतिष्ठापित करा दिया था |कालांतर में भगवंत सिंह गौर ने ई .१६५३ में इस स्थान पर मठ शैली में मंदिर का निर्माण कराया |ई . १९६६ में स्थानीय जनता के सहयोग से इस मंदिर का पुनर्निर्माण हुआ ,जो आज यहाँ भव्य रूप में विद्यमान है |सन १९५६ में समीपस्थ ग्राम अजनार में जैन तीर्थंकर विमलनाथ की प्रतिमा एक मकान की नींव खोदते समय प्राप्त हुई थी ,जो आज रोन के जिनालय में राखी हुई है |इस क्षेत्र में जैन प्रतिमाओं का पाया जाना अतीत में यहाँ जैन बस्ती होने का एक पुष्ट संकेत है |
         भाटनताल के नजदीक यहाँ जो श्मशान घाट था वह टीलेनुमा ऊँचे स्थान पर बना हुआ था |दरअसल वहां कभी भाट लोगों की बस्ती हुआ करती थी |भाटनताल नमक ताल भी भाट लोगों का बनवाया हुआ हैक्योंकि  इसके  नाम से ही यह व्यंजित होता है|नजदीक में बसा भटपुरा गाँव भी भाट समुदाय के लोगों के समृद्ध अतीत की स्मृति आज भी अपने नाम के साथ संजोये हुए है |दस्यु गतिविधियों के लिए कभी कुख्यात रहे इस क्षेत्र में अनेक विद्वान् ,मनस्वी ,और शूरवीर जन्में हैं |यहाँ के लोग सेना की सेवा आज भी सर्वोच्च वरीयता देते हैं |यहाँ के असंख्य रणबांकुरों ने मातृभूमि की रक्षा करते हुए अपने प्राण उत्सर्ग किये हैं |अपने अतीत की धुंधली स्मृतियों को समेटे इस नगर का वर्त्तमान समृद्ध है और भविष्य निश्चय ही स्वर्णिम |
            श्रीश राकेश  

2 टिप्‍पणियां:

  1. आपने तो भूगोल और इतिहास दोनों के ही दर्शन करवा दिये :) मगर आपने बहुत अच्छा लिखा है। काफी जानकारी पूर्ण है आपकी यह पोस्ट आभार
    समय मिले तो कभी आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है
    http://mhare-anubhav.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छी जानकारी, परन्तु आपने टेक्स्ट कापी ब्लाक के लिए जिस स्क्रिप्ट का प्रयोग किया है उसके कारण टिप्पणी करने के लिए टिप्पणी बाक्स में लिखने के लिए काफी इन्तजार करना पड़ा | एक और कमी महसूस की है आपने बाईं तरफ नीचे कोने में अपनी तस्वीर काफी बड़े अंदाज़ मैं लगा रखी है जिससे पोस्ट पर लिखा टेक्स्ट पढ़ने में असुविधा महसूस होती है | पेज को ऊपर नीचे करके पूरी पोस्ट पढ़ने लायक बन पाती है | कृपया किस समस्या की तरफ ध्यान दें | कृपया इसे अन्यथा न लें | ये मेरे अपने विचार हो सकते है | हो सकता ही सभी इस विचार से सहमत न हों |

    उत्तर देंहटाएं