शनिवार, 6 नवंबर 2010

यक्ष-प्रश्न

मैं तुम से तुम्हारा धर्म नहीं पूछूँगा ,
जाति भी नहीं ,यह भी नहीं की तुम
वामपंथी हो या दक्षिणपंथी या सनातनी
संत,    महंत  या   फिर  मठाधीश
पर यह तो कहो कि कैसे इतने सहज ,अतिमानवीय ,
निष्काम ,निर्लिप्त ,निर्विकार ,निष्पक्ष और भव्य बन पाए तुम ?
मैं तुम से यह नहीं कहूँगा कि मेरी मति ,समझ ,जीवन के मूल्य
तुम्हारे मूल्यों से श्रेष्ठ हैं और यह भी नहीं कि तुम्हारे हेय हैं ,
पर महामना सच -सच कहो कि क्या तुम्हारा आचरण ,तुम्हारी
समझ का संश्लेषित रूपांतरण है या ठीक उसके विपरीत
तुम्हारी समझ ,मीमांसा ,प्रस्थापना ,अवधारणाओं का खंडन /
मैं यह भी नहीं पूछूँगा कि तुम शिक्षक ,पत्रकार ,वैज्ञानिक ,राजनीतिज्ञ हो ,
पर मेरे प्रियमित्र ,सहस्राव्दियों का यह द्वैत समझ ,आचरण के बीच
कितने विरोधी ,एक- दुसरे को निषेधित करने वाले खानों में बाँट गया है मानवता को
देश, धर्म ,संस्कृति ,नस्लों ,जातियों के नाम पर /
सच क्या तुमको वास्तव में इसका अहसास नहीं होता
कि धीरे- धीरे सहस्राव्दियों से जीवन मूल्यों की कथनी- करनी का यह द्वैत
सुरसा कि तरह लील रहा है मानवीय संवेदनाओं को /
सच कहो क्या तुमको खुद की रक्ताल्पता ,रुग्णता ,जर्जरता ,शनैः- शनैः
खुद के अन्दर मरते हुए आदमी की वेदना का अहसास नहीं होता ?
हैवानियत में डूब कर भी आदमी होने की लीला कैसे कर लेतो हो लीलाधारी ???
             -----श्यामबिहारी पराशर ,ग्वालियर .
      

8 टिप्‍पणियां:

  1. खुद के अन्दर मरते हुए आदमी की वेदना का अहसास नहीं होता ?
    हैवानियत में डूब कर भी आदमी होने की लीला कैसे कर लेतो हो लीलाधारी ???
    Bahut khoob!

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस नए सुंदर से चिट्ठे के साथ आपका हिंदी ब्‍लॉग जगत में स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  3. ब्लाग जगत की दुनिया में आपका स्वागत है। आप बहुत ही अच्छा लिख रहे है। इसी तरह लिखते रहिए और अपने ब्लॉग को आसमान की उचाईयों तक पहुंचाईये मेरी यही शुभकामनाएं है आपके साथ
    ‘‘ आदत यही बनानी है ज्यादा से ज्यादा(ब्लागों) लोगों तक ट्प्पिणीया अपनी पहुचानी है।’’
    हमारे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।

    मालीगांव
    साया
    लक्ष्य

    हमारे नये एगरीकेटर में आप अपने ब्लाग् को नीचे के लिंको द्वारा जोड़ सकते है।
    अपने ब्लाग् पर लोगों लगाये यहां से
    अपने ब्लाग् को जोड़े यहां से

    कृपया अपने ब्लॉग पर से वर्ड वैरिफ़िकेशन हटा देवे इससे टिप्पणी करने में दिक्कत और परेशानी होती है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत उम्दा लेख है। सादुवाद१

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेहद प्रभावशाली कविता की प्रस्तुति।

    शुक्रिया।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत अच्छी पोस्ट| धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  7. लेखन अपने आपमें रचनाधर्मिता का परिचायक है. लिखना जारी रखें, बेशक कोई समर्थन करे या नहीं!

    बिना आलोचना के भी लिखने का मजा नहीं!

    यदि समय हो तो आप निम्न ब्लॉग पर लीक से हटकर एक लेख

    "आपने पुलिस के लिए क्या किया है?"
    पढ़ सकते है.

    http://baasvoice.blogspot.com/
    Thanks.

    उत्तर देंहटाएं