रविवार, 2 अक्तूबर 2011

कामना

आधार बना सहजीवन को ,
निज अनुशासन में बद्ध रहें /
कर्तव्यों के परिपालन में ,
नित सजग और सन्नद्ध रहें /
वंदन उनका, जिन्हने जग को
सामाजिक न्याय सिखाया है /
कथनी- करनी में भेद न कर ,
भद्रोचित मार्ग दिखाया है /
जो मूल्य मील के पत्थर हैं ,
उनका जीवन में वरण करें /
वैज्ञानिक सोच-समझ रक्खें ,
आदर्शोन्मुख आचरण करें //
---------श्रीश राकेश  

2 टिप्‍पणियां:

  1. संदेश आत्मक पोस्ट ....
    समय मिले तो कभी आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है
    http://mhare-anubhav.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  2. सार्थक सन्देश देती हुई पोस्ट

    उत्तर देंहटाएं