शुक्रवार, 21 अक्तूबर 2011

भूख की आग

क्या जाने वह ,भला भूख की आग 
कभी भाग्य का छल कर ,कभी बाहुबल से 
हड़पा हो जिसने औरों का भाग |
यह नहीं विधाता का कोई अभिशाप ,दंड 
जिंदा  शैतानों के हाथों का खेल है ;
यह है  अमोघ उपकार सेठ ,श्रीमंतों का 
उनकी रोपी, पोषी,रक्षित विषवेल है |
शस्त्रों,शास्त्रों के बल पर न्यायोचित ठहरा 
उत्पीड़न को दैवी-विधान कह भरमाया ;
दोनों हाथों में लड्डू ले दानी बनकर 
जिन्हने फैलाई फिर  उदारता की माया |
व्रत, अनशन चाहे भले रहे हों अनुष्ठान ;
पर, भूख एक पीड़ादायी सच्चाई है ;
जो लोग धकेले गए हाशिये पर उनके 
नंगे पाँवों में गहरी फटी बिबाई है |
औरों से कर उपवासों की पैरोकारी 
खुद छेड़ रहे जो भरे पेट का राग  ;
सच क्या जाने वे भला भूख की आग  ||
       ...श्रीश राकेश 

1 टिप्पणी:

  1. बेहद शानदार,आपकी कविता में बहुत पीड़ा है मित्र।

    उत्तर देंहटाएं